June 17, 2024
HindiHomeinvesting

Green hydrogen stocks: भारत में ग्रीन हाइड्रोजन बनाने वाली कंपनी कौन कौन सी है?

आज की दुनिया में ऊर्जा की मांग तेजी से बढ़ रही है, और इस मांग को पूरा करने के लिए स्थायी और पर्यावरण-हितैषी विकल्पों की खोज करना आवश्यक हो गया है। Green hydrogen ऊर्जा एक ऐसा ही विकल्प है जो न केवल पर्यावरण के अनुकूल है बल्कि भविष्य में ऊर्जा क्षेत्र में क्रांति ला सकता है। इस लेख में हम हाइड्रोजन स्टॉक्स के बारे में जानेंगे और क्यों यह निवेश के लिए एक आकर्षक विकल्प हो सकता है।

Green hydrogen ऊर्जा क्या है?

 

Green hydrogen ऊर्जा को ईंधन के रूप में उपयोग किया जा सकता है। इसे जल (H₂O) से प्राप्त किया जाता है, जिसे इलेक्ट्रोलिसिस के माध्यम से हाइड्रोजन (H₂) और ऑक्सीजन (O₂) में विभाजित किया जाता है। हाइड्रोजन का उपयोग ईंधन सेल में किया जाता है जो बिजली उत्पन्न करता है, और इसका उपयोग विभिन्न उद्योगों जैसे परिवहन, बिजली उत्पादन और औद्योगिक प्रक्रियाओं में किया जा सकता है।

Green hydrogen stocks में निवेश क्यों करें?

  1. पर्यावरण-हितैषी विकल्प: हाइड्रोजन ऊर्जा के उपयोग से ग्रीनहाउस गैसों का उत्सर्जन कम होता है, जिससे यह पर्यावरण के लिए लाभकारी है। वैश्विक तापमान वृद्धि और जलवायु परिवर्तन के मुद्दों को ध्यान में रखते हुए, हाइड्रोजन ऊर्जा एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती है।
  2. सरकारी समर्थन: कई सरकारें हाइड्रोजन ऊर्जा को बढ़ावा देने के लिए नीति और वित्तीय समर्थन प्रदान कर रही हैं। इससे इस क्षेत्र में अनुसंधान और विकास को बढ़ावा मिलता है और हाइड्रोजन स्टॉक्स की मांग बढ़ सकती है।
  3. तकनीकी प्रगति: हाइड्रोजन ऊर्जा प्रौद्योगिकी में निरंतर प्रगति हो रही है, जिससे इसकी उत्पादन लागत घट रही है और इसकी प्रभावशीलता बढ़ रही है। यह निवेशकों के लिए लाभदायक हो सकता है।
  4. ऊर्जा की विविधता: हाइड्रोजन ऊर्जा एक वैकल्पिक ऊर्जा स्रोत है जो पारंपरिक जीवाश्म ईंधनों पर निर्भरता को कम कर सकता है। इससे ऊर्जा सुरक्षा बढ़ती है और आपूर्ति श्रृंखला में स्थिरता आती है।



 

प्रमुख हाइड्रोजन कंपनियां

भारत में हाइड्रोजन ऊर्जा के क्षेत्र में कई कंपनियां सक्रिय रूप से काम कर रही हैं, जो विभिन्न उद्योगों में हाइड्रोजन प्रौद्योगिकी के विकास और उपयोग को बढ़ावा दे रही हैं। यहां प्रमुख भारतीय हाइड्रोजन कंपनियों की सूची दी गई है:

1. इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन लिमिटेड (IOC)

इंडियन ऑयल हाइड्रोजन उत्पादन और उपयोग के क्षेत्र में अग्रणी है। यह कंपनी हाइड्रोजन उत्पादन, भंडारण और वितरण के लिए विभिन्न परियोजनाओं पर काम कर रही है। उन्होंने दिल्ली में भारत का पहला ग्रीन हाइड्रोजन प्लांट स्थापित किया है।

2. रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (RIL)

रिलायंस इंडस्ट्रीज ग्रीन एनर्जी के क्षेत्र में निवेश कर रही है और हाइड्रोजन ऊर्जा पर भी ध्यान केंद्रित कर रही है। कंपनी ने हाइड्रोजन उत्पादन के लिए बड़ी योजनाएं बनाई हैं, जिसमें सौर ऊर्जा से हाइड्रोजन उत्पादन भी शामिल है।

3. NTPC लिमिटेड

NTPC, जो भारत की सबसे बड़ी ऊर्जा उत्पादन कंपनी है, हाइड्रोजन ऊर्जा के क्षेत्र में भी निवेश कर रही है। उन्होंने लेह में सोलर पावर से ग्रीन हाइड्रोजन उत्पादन का प्रोजेक्ट शुरू किया है।

4. Tata Motors

टाटा मोटर्स हाइड्रोजन फ्यूल सेल वाहनों के विकास में सक्रिय है। कंपनी ने हाइड्रोजन फ्यूल सेल बसों के विकास और परीक्षण के लिए विभिन्न परियोजनाओं पर काम किया है।



5. लार्सन एंड टुब्रो (L&T)

L&T हाइड्रोजन उत्पादन और भंडारण समाधान के लिए विभिन्न परियोजनाओं में शामिल है। उन्होंने हाइड्रोजन ऊर्जा के क्षेत्र में तकनीकी विकास और निवेश के लिए योजनाएं बनाई हैं।

6. अदानी ग्रुप

अदानी ग्रुप भी हाइड्रोजन उत्पादन और वितरण के क्षेत्र में बड़े निवेश कर रहा है। कंपनी ने सौर ऊर्जा से हाइड्रोजन उत्पादन के लिए कई परियोजनाओं की योजना बनाई है।

7. एसीएमई सोलर होल्डिंग्स

एसीएमई सोलर होल्डिंग्स ग्रीन हाइड्रोजन उत्पादन के क्षेत्र में एक प्रमुख खिलाड़ी है। उन्होंने राजस्थान में विश्व का सबसे बड़ा ग्रीन हाइड्रोजन प्लांट स्थापित करने की योजना बनाई है।

8. ONGC (ऑयल एंड नैचुरल गैस कॉरपोरेशन)

ONGC हाइड्रोजन ऊर्जा के क्षेत्र में अनुसंधान और विकास कर रही है। कंपनी ने ग्रीन हाइड्रोजन उत्पादन के लिए विभिन्न परियोजनाओं की योजना बनाई है।

9. GAIL (गैस अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड)

GAIL हाइड्रोजन ऊर्जा के क्षेत्र में अपने प्रयासों को बढ़ा रही है और हाइड्रोजन उत्पादन, वितरण और उपयोग के लिए विभिन्न परियोजनाओं पर काम कर रही है।



10. भारत हेवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड (BHEL)

BHEL हाइड्रोजन ऊर्जा और फ्यूल सेल तकनीक के विकास में भी सक्रिय है। कंपनी ने हाइड्रोजन फ्यूल सेल आधारित ऊर्जा समाधान विकसित करने के लिए कई परियोजनाएं शुरू की हैं।

ये कंपनियां भारत में हाइड्रोजन ऊर्जा के क्षेत्र में प्रगति करने और इसे एक स्थायी और पर्यावरण-हितैषी ऊर्जा स्रोत बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही हैं। इनके प्रयासों से भारत के ऊर्जा क्षेत्र में हाइड्रोजन का उपयोग बढ़ेगा और यह देश की ऊर्जा सुरक्षा और पर्यावरण संरक्षण में महत्वपूर्ण योगदान देगा।

 

jio finance share price: स्टॉक 7.80 प्रतिशत उछलकर 359.90 रुपये पर पहुंचा

 

क्या Tata Investment अगला multibagger होगा?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *